Mantra

शनि बीज मंत्र

ॐ शं शनिश्चराय नम:


शनि तांत्रिक मंत्र

ॐ प्रां प्री प्रौम सः शनिश्चराय नमः


शनि मेन मन्त्र वेद व्यास

ॐ सुर्यपुत्र दिर्घदेहो विशालाख शिव्प्रये
मंद्चार प्रस्सनात्मा पीड़ा हरतु में शनि
नीलांजना-समभासम रवि पुत्रं यमाग्रजम
च्या-मार्तंडा-संभूतं तम नमामि शानैश्वरम

।। मेष राशि का मन्त्र ।।

'' ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मी नारायणाय नमः ''


।। वृष राशि का मन्त्र ।।

'' ॐ गोपालाय उत्तर ध्वजाय नमः ’’


।। मिथुन राशि का मन्त्र का मन्त्र ।।

'' ॐ क्लीं कृष्णाय नमः''


।। कर्क राशि का मन्त्र ।।

'' ॐ हिरण्य गर्भाय अवयक्त रुपिणे नमः ’’


।। सिंह राशी का मन्त्र ।।

ॐ क्लीं बह्मणे जगदा धाराय नमः


।। कन्या राशि का मन्त्र ।।

ॐ नमो प्रीं पीताम्बराय नमः


।। तुला राशि का मन्त्र ।।

'' ॐ तत्व निरंजनाय तारकरामाय नमः ’’


।। वृश्चिक राशि का मन्त्र ।।

'' ॐ नारायणाय सुरसिंहाय नमः ’’


।। धनु राशि का मन्त्र ।।

'' ॐ श्रीं देवकृष्णाय ऊर्ध्वषंताय नमः ’’


।। मकर राशि का मन्त्र ।।

'' ॐ श्रीं वत्सलाय नमः ''


।। कुम्भ राशि का मन्त्र ।।

'' ॐ श्रीं उपेन्द्राय अच्युताय नमः ''


।। मीन राशि का मन्त्र ।।

'' ॐ क्लीं उद् धृताय उद्धारिणे नमः ''


इन मन्त्रों को अनार की लकड़ी के कलम से अष्टगंध से
भोजपत्र पर लिखकर तांबे के ताबीज में धारण करें ।

हनुमान मंत्र

मनोजवं मारुततुल्यवेगम्
जितेन्दि्रयं बुद्धिमतां वरिष्थम्
वातात्मजं वानरयूथमुख्यं
श्री रामदूमं शरण प्रपद्ये

।। सूर्य मंत्र ।।

आ कृष्णेन् रजसा वर्तमानो निवेशयत्र अमतं मर्त्य च
हिरणययेन सविता रथेना देवो याति भुवनानि पश्यन

;